fbpx

#बिल_को_जानो : तीन कृषि कानून क्या हैं ये तो जानिए फिर होगी विस्तार से बात

 #बिल_को_जानो : तीन कृषि कानून क्या हैं ये तो जानिए फिर होगी विस्तार से बात

नई दिल्ली: किसान रिपोर्टर की खास पेशकश #BillKoJano #बिलकोजानों की ही कड़ी में उन तीन बिलों के बारे में बताया जा रहा है जिसे लेकर काफी गलतफहमिया हैं. हम आने वाले दिनों में इनपर विस्तार से बात करेंगे लेकिन उससे पहले आप कम से कम एक नजर उन बिलों पर तो जरूर डालिए कि आखिर यह हैं क्या ?

क्या हैं ये 3 कृषि कानून

किसान उपज व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन एवं सुविधा) विधेयक 2020 (The Farmers’ Produce Trade and Commerce (Promotion and Facilitation) Act, 2020): इस कानून के आने से किसानों को विभिन्न राज्य विधानसभाओं द्वारा गठित कृषि उपज विपणन समितियों (APMC) द्वारा विनियमित मंडियों के बाहर अपनी उपज बेचने की अनुमति होगी. किसान इस कानून के जरिए अब एपीएमसी मंडियों के बाहर भी अपनी उपज बेच पाएंगे और निजी खरीदारों से ऊंचे दाम प्राप्त कर पाएंगे.

किसान (सशक्तिकरण एवं संरक्षण) मूल्य आश्वासन अनुबंध एवं कृषि सेवाएं विधेयक (Farmers (Empowerment and Protection) Agreement on Price Assurance and Farm Services Act, 2020): दूसरा कृषि कानून अनुबंध खेती यानी कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग (Contract Farming) को लेकर है. इस कानून के तहत किसान अपनी जमीन को एक निश्चित राशि पर एक पूंजीपति या ठेकेदार को दे सकता है. इसके बाद पूंजीपति या ठेकेदार अपने हिसाब से फसल का उत्पादन कर बाजार में बेच सकेगा.

आवश्यक वस्तु (संशोधन) विधेयक (Essential Commodities (Amendment) Act, 2020) : तीसरा कानून किसी भी तरह के अनाज, आलू, प्याज और खाद्य तिलहन जैसे पदार्थों के उत्पादन, आपूर्ति, वितरण और भंडारण को लेकर है. इस कानून के तहत खाद्य पदार्थों आवश्यक वस्तु की सूची से बाहर करने का प्रावधान है. इसके बाद युद्ध व प्राकृतिक आपदा जैसी आपात स्थितियों को छोड़कर भंडारण की कोई सीमा नहीं रह जाएगी.

तो यह जरूरी जानकारी है इसके अलावा अब इन प्रावधानों पर सवाल भी उठाए जा रहे हैं तो किसान रिपोर्टर बताएगा आखिर कैसे नए बदलाव से किसान की किस्मत भी बदलेगी.

Related post