fbpx

किसान भाईयों की मेहनत पर “चीनी साजिश” हावी, होश उड़ाने वाला सच

 किसान भाईयों की मेहनत पर “चीनी साजिश” हावी, होश उड़ाने वाला सच

नई दिल्ली: जब पूरी दुनिया सो रही होती है तो किसान खेतों में पानी डाल रहा होता है. हमारे पैरों में मोजे होते हैं और किसान मिट्टी से सने पैर लेकर कंपकपाती सुबह में भी फसलों को पानी देता है. लेकिन, जब उसकी फसल के साथ साजिश हो तो यह बहुत पीड़ा देने वाली सूचना है. किसान की मेहनत पर चीनी साजिश भारी पड़ रही है. एक होश उड़ा देने वाला सच सामने आया है.

जी हां ! जिस चावल को किसान अपने पसीने से सींच कर लोगों के खाने के लिए तैयार कर करता है उससे शराब बन रही है. वह भी भारत में नहीं चीन में. चीन के साथ भूटान और वियतनाम भी इस साजिश में साथ-साथ हैं. और आश्चर्य की बात है कि जो चावल बाहर भेजा जा रहा है वह राशन के कोटे का मोटा चावल है. बिचौलिए राशन का चावल चीन और भूटान के तस्करों को बेचते हैं.

असम, बंगाल और गंगटोक के रास्ते यह राशन का चावल वहां पहुंच रहा है. यही कारण है कि मोटे चावल की मांग काफी बढ़ गई है और इसके रेट में भी इजाफा हो गया है. इसे लेकर पिछले दिनों कई स्थानों पर छापेमारी की गई है. कुछ लोगों को पकड़ा गया है. लेकिन, सूत्रों का कहना है कि यह जाल काफी गहरे तक फैला हुआ है.

Related post