fbpx

ड्रैगन फ्रूट : अच्छी सेहत के साथ अच्छी कमाई का जरिया

 ड्रैगन फ्रूट : अच्छी सेहत के साथ अच्छी कमाई का जरिया

नई दिल्ली: देश के अलग-अलग राज्यों में इन दिनों ड्रैगन फ्रूट की खेती काफी की जा रही है. अपनी विशेषताओं को लेकर यह आजकल काफी लोकप्रिय है. यही कारण है कि भारत में अब इस फल की भिन्न प्रजातियों को लेकर शोध चल रहा है और नई किस्मों को तैयार करने में वैज्ञानिक जुटे हुए हैं.

फिलहाल ड्रैगन फ्रूट की खेती कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, महाराष्ट्र, गुजरात, ओडिशा, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश और अंडमान निकोबार द्वीप समूह में हो रही है. गौरतलब है कि इसे लेकर राजनीति भी गरमा चुकी है. गुजरात सरकार ने इस फल का नामकरण ‘कमलम’ के रूप में भी किया था.

इसमें फाइबर, विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट्स प्रचूर मात्रा में पाया जाता है. शरीर में सूजन और पाचन तंत्र के लिए यह एक बेहतर विकल्प है. खास बात यह है कि बर्फ और जल भराव वाली जगहों को छोड़कर इसकी खेती कहीं भी की जा सकती है. 10 डिग्री से लेकर 50 डिग्री तक के बीच में इसे उगाया जा सकता है.

तीन खास किस्में :

  • सफेद पिताया (White Dragon Fruit)
  • लाल पिताया (Red Dragon Fruit)
  • पीला पिताया (Yellow Dragon Fruit)

इसकी बाजर में कीमत 100 रुपए से 800 रुपए प्रति किलो तक होती है. तो आप कब कर रहे हैं कमलम की खेती ?

Related post