fbpx

जानें आखिर 16 राज्यों की बिजली क्यों काटना चाहते हैं किसान नेता, सरकार क्या कह रही है

 जानें आखिर 16 राज्यों की बिजली क्यों काटना चाहते हैं किसान नेता, सरकार क्या कह रही है

नई दिल्ली: किसान आंदोलन एक बार फिर उग्र होने की तैयारी में है. भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने चेतावनी दी है कि यदि उनकी मांगे नहीं मानी गई तो वो 16 राज्यों की बिजली ही काट देंगे. उन्होंने यह बयान राजस्थान के भरतपुर में पत्रकारों से बातचीत के दौरान दिया.

टिकैत ने यह भी कहा कि केंद्र सरकार असल में कोई सरकार नहीं है बल्कि कारोबारी देश को चला रहे हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि सभी सरकारी संस्थाओं को बेच दिया गया है. सरकार के साथ टिकैत ने विपक्ष को भी लताड़ लगाई. उन्होंने कहा कि अगर विपक्ष मजबूत होता तो सरकार की तानाशाही नहीं चल पाती.

इन सबके बीच केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा है कि आंदोलन के नेता जिस दिन चाहेंगे रास्ता निकल जाएगा. उन्होंने कहा कि सरकार बातचीत के लिए तैयार है और समाधान चाहती है. गौरतलब है कि सरकार और किसान संगठनों के बीच कई दौर की बातचीत हो चुकी है.

गौरतलब है कि पिछले करीब चार माह से केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के विरोध में किसान संगठन आंदोलन कर रहे हैं. दिल्ली की सीमाओं पर किसान नेता धरने पर बैठे हुए हैं. इसके साथ ही देश के अलग-अलग हिस्सों में दौरा कर सभाएं भी की जा रही हैं. किसानों को संगठन आंदोलन से जोड़ने की कोशिश कर रहे हैं.

Related post